दमा

बच्चों में अस्थमा अलग कैसे है?

जब एक बच्चे में अस्थमा का निदान होता है, तो माता-पिता के मन में बहुत सारे प्रश्न उठते हैं - मेरा बच्चा ही क्यों? क्या मेरा बच्चा सामान्य रूप से बड़ा होगा? क्या मेरा बच्चा अपने सभी पसंदीदा
खेल खेल सकेगा?
लेकिन अस्थमा के बारे में चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है. समस्या, लक्षण, ट्रिगर्स और उपचार की
पूरी समझ के साथ, अपने बच्चे के अस्थमा को नियंत्रण में रखना बेहद आसान है, इस तरह आपका
बच्चा स्वस्थ और सामान्य जीवन का आनंद उठा सकता है.
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, दुनिया भर के बच्चों के बीच अस्थमा श्वसन संबंधी
सबसे साधारण समस्या है. लाखों बच्चों को अस्थमा है और वे इसे अच्छी तरह से प्रबंधित करते हैं. तो
इसलिए आप अकेले नहीं हैं.
प्रचलित धारणा के विपरीत, बच्चों का अस्थमा वयस्कों में अस्थमा के जैसा नहीं है. जबकि वयस्कों में
सांस लेने में कठिनाई, घरघराहट, खांसी और सीने में जकड़न जैसे कुछ सामान्य लक्षण दिखाई देते हैं,
तो वहीं बच्चों में इसी तरह के लक्षण दिखाई नहीं दे सकते हैं. अस्थमा वाले ज्यादातर बच्चों को प्रमुख
लक्षण के रूप में खांसी होती है. लगातार खांसी (जो 3-4 सप्ताह से ज्यादा समय तक चलती है) बच्चों में
अस्थमा का संकेत हो सकती है.
यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि सही उपचार और प्रबंधन के साथ, अस्थमा को पूरी तरह से नियंत्रित
करना संभव है, जिसका अर्थ है कि आपका बच्चा वह सब कुछ कर सकता है जो एक बच्चा करना चाहता
है.

अस्थमा पूरी तरह से इलाज योग्य है, इसलिए आपको अपने बच्चे के अस्थमा और उसके विकास के बारे
में चिंता करने की जरूरत नहीं है. इन्हेलर अस्थमा के इलाज का सबसे प्रभावी तरीका हैं. दवा को
इन्हेलर के माध्यम से दिया जाता है, इसलिए यह सीधे फेफड़ों तक पहुंच जाता है और इससे कम से
कम दुष्प्रभाव होते हैं. दो प्रकार की अस्थमा की दवाएं हैं - कंट्रोलर और रिलीवर. समय के साथ लक्षणों
और दौरों को रोकने के लिए कंट्रोलर का इस्तेमाल किया जाता है. यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि
कंट्रोलर तत्काल राहत प्रदान नहीं करते. रिलीवर तत्काल राहत प्रदान करते हैं और अस्थमा के दौरे के
दौरान इनका इस्तेमाल किया जाता है. कंट्रोलर का नियमित रूप से इस्तेमाल रिलीवर दवाओं की
आवश्यकता को कम करने में भी मदद कर सकता है.
अगर आपके बच्चे को अस्थमा है तो कुछ ऐसी चीजें हैं जिन पर आपको ध्यान देने की जरूरत है:
 अपने बच्चे के अस्थमा ट्रिगर्स की पहचान करें और उनको उनसे दूर रखें 

 अपने बच्चे के लक्षणों को प्रबंधित कैसे करें इस बारे में बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श लें
 आपके बच्चे के लिए बनाई गई अस्थमा कार्य योजना का पालन करें
 इन्हेलर और अन्य दवाओं का सही तरीके से उपयोग करना सीखें और अपने बच्चे को भी
सिखाएं
 कंट्रोलर और रिलीवर इन्हेलर पर लेबल लगाएं, ताकि कोई भ्रम न हो
 सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा अपने रिलीवर इन्हेलर को हमेशा अपने साथ रखता है, इससे
कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह कहां जाता है - स्कूल, पार्क और अन्य यात्राएं.
 अपने बच्चे को अस्थमा के बारे में उस आसान तरीके से समझाएं, जिसे वह समझ सकता/ती है.
यदि आप उसे यह बताते हैं कि इन्हेलर कैसे उसकी मदद करते हैं और कैसे वह अस्थमा से
संबंधित आपात स्थिति से बच सकते हैं तो इससे भी मदद मिलेगी.
 अस्थमा का दौरा पड़ने पर, आपको सबसे पहले जो करना है वह है कि शांत रहें और अपने बच्चे
को आश्वस्त करें कि सब कुछ ठीक हो जाएगा. ऐसा करने के दौरान, दौरे से अपने बच्चे की मदद
करने के लिए अस्थमा की आपात स्थिति के निर्देशों का पालन करें.
 अपने बच्चे के अस्थमा के बारे में परिवार, देखभाल करने वाले व्यक्तियों और स्कूल को सूचित
करें, उनके साथ अस्थमा कार्य योजना साझा करें और उन्हें अपनी आपातकालीन संपर्क
जानकारी देना न भूलें
 हालांकि करने वाली सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अपने बच्चे को उसकी पसंद के काम करने
से न रोकें. यदि आपका बच्चा नाचना, खेलना, तैरना या मार्शल आर्ट्स का अभ्यास करना
चाहता है, तो उन्हें करने दें. सिर्फ इसलिए कि आपके बच्चे को अस्थमा है, इसका मतलब यह
नहीं है कि उनका बचपन मस्ती भरा नहीं हो सकता.

Please Select Your Preferred Language