#SaveyourlungsDilli

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से 13 भारत में हैं, जिनमें राजधानी नई दिल्ली भी शामिल है. प्रदूषण के अत्यधिक संपर्क में आने के कारण हमें पर्यावरणीय एलर्जेन्स और प्रदूषणकारी घटकों का सामना करना पड़ रहा हैं, यह वास्तव में कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि दिल्ली की लगभग 34% आबादी सांस लेने की विभिन्न समस्याओं - जैसे कि अस्थमा, सीओपीडी और ब्रोंकाइटिस से पीड़ित है. इन तकलीफों से ग्रस्त लोगों की बहुत ज्यादा तादाद होने के बावजूद, सांस की समस्याएं और एलर्जेन्स तथा प्रदूषक किस तरह किसी के फेफड़ों को प्रभावित करते हैं इस बारे में जागरूकता अभी भी बहुत कम है.

ब्रीदफ्री (सिप्ला की सार्वजनिक सेवा पहल) सांस लेने की समस्याओं और उनके उपचार के प्रकारों को समझने और जागरूक होने के बारे में लोगों की बढ़ती जरूरत को समझती है. इसलिए, हमने आपको सारी आवश्यक जानकारी देने और समर्थन प्राप्त करने में मदद करने के लिए ‘#Saveyourlungsdilli’ नामक आंदोलन शुरू किया है. इस आंदोलन के साथ, ब्रीदफ्री ने अपनी पहली, इस तरह की इकलौती हेल्पलाइन भी लॉन्च की है, जो आपको चौबीस घंटे नि:शुल्क समर्थन और जानकारी देती है.

चाहे आपको सांस से संबंधित समस्या हो या न हो या आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हों जिसे यह है या आपको लगता है कि आपको समस्या हो सकती है, तो आप हेल्पलाइन पर आसानी से कॉल कर सकते हैं और ब्रीदफ्री से अपने पड़ोस में फेफड़े का नि:शुल्क चेक-अप शिविर आयोजित करने के लिए कह सकते हैं.

तो, यह #saveyourlungsdilli और आज़ाद होकर सांस लेने का समय है.